Dil Aisa Kisi Ne Mera Toda

Posted In Poetry - By NitiN Kumar Jain On Saturday, May 31st, 2008 With 0 Comments






Pin It


क्या हुआ अगर वह ना हो सके हमारे
जी लेंगे फ़िर भी उनकी यादों के सहारे
खुश रहे वह सदा यह दुआ है हमारी
हमारा जैसा भी हुआ ना आए कभी उनकी बारी
चाँद एक है तो क्या हुआ
ढेर सारे है तारे
पतझड़ के बाद ही आती है बहारे
क्या हुआ अगर वह ना हो सके हमारे
क्या हुआ अगर वह ना हो सके हमारे

!! १९ अक्टूबर २००३ की कृति !!

– एन के जे

Tags: ,