Dil Vil Pyar Vyar

Posted In India, Poetry - By NitiN Kumar Jain On Saturday, June 7th, 2008 With 0 Comments






Pin It


तेरी आंखों में डूब जाने को दिल चाहता है
तेरी जुल्फों की छाँव में सो जाने को दिल चाहता है
तेरे होंठों का रस पी जाने को दिल चाहता है
तुम मानो या मानो
तुझे पाने की खातिर
खुदा से लड़ जाने को दिल चाहता है





तेरी झलक पाने का बहाना ढूँढ रहा हूँ
तुझसे आँखे जब चार होगी
वह दिन सुहाना ढूँढ रहा हूँ
तेरे हुस्न की तारीफ़ में कोई गीत पुराना ढूँढ रहा हूँ
मेरे प्यार की गहराई को माप सके
वह पैमाना ढूँढ रहा हूँ

मेरे जीवन में गर तुम आते
तुम्हे हम बताते
की कितना चाहते है हम
जीवन भर का साथ तुम निभाते
तुम्हे हम बताते
की किस तरह अपनी यादों में बसाते है हम
मरने के बाद भी गर जीते
तब भी खुदा से हर जनम
तुम्हे पाने की इच्छा जताते हम

तुम्हे अपनी आंखों में बसाया है
अपने दिल की गहराइयों में छुपाया है
सपनो की रानी को
हकीकत में पाया है
तेरे प्यार की 100 बार कसम
सिर्फ़ तेरा नाम ही मेरे दिलो दिमाग पर छाया है
शायद यही तेरे प्यार की माया है


ना रातो को नींदे ना दिन में करार
जबसे देखा है तुझे मेरे यार
प्यार में समझो ना हमको गवार
मजनू के चेले है Romeo के सरदार
दुनिया से डर के ना मानेगे हार
मर कर भी करेंगे सिर्फ़ तुम्हे हम प्यार

खुली आंखो से दीदार तो सभी करते है
बंद आंखों से करता हूँ मैं
प्यार तो तुम्हे सभी करते है
तुम पर अपनी जान छिद्दकता हूँ मैं
तेरी याद में एक बार तो सभी मरते है
दिन में 100 बार मरता हूँ मैं

मेरी आंखों में झाकोगे
तुम्हे अपना चेहरा नज़र आएगा
मेरे दिल के दरवाजे पर
ना कोई पहरा नज़र आयेगा
सिर्फ़ तेरे लिए
मेरे सर पर सेहरा नज़र आएगा

दिल के हर कोने में है
तुम्हारी ही तस्वीर
तान्हाइयो के अंधेरे में है
मेरी वो तकदीर
तुम्हारी तस्वीर के सहारे ही
कही मुझे जीना ना पड़े
तन्हाइयो का सागर
कही मुझे पीना ना पड़े
हकीकत में न सही
सपनो में तो बन ही जाना
इस रांझे की हीर

मोहब्बत तो दिलवाले ही करते है
वो दुनिया से हरगिज़ नही डरते है
तन्हाई में भी बाहों में तुम्हे भरते है
दुनिया से ज्यादा
खुदा से भी ज्यादा
सोते है जागते है
जीते है मरते है
दिल से तुम्हे ही अपने
प्यार करते है

– एन के जे

Tags: ,